“जादूगर”

किरन मिश्रा

रचनाकार- किरन मिश्रा

विधा- कविता

सुनो जादूगर
खिल उठते हैं मेरेे होंठ,
तुम्हारी चाहत की चाशनी में डूब,
गुलाब की सुर्ख पंखुडी से,
जब भी तुम लिखतेे हो,
मेरे अधरोष्ठों पर,
अपने प्रेम की रसीली कवितावली
और मेरे माथे को चूम,
गहरे आलिंगन में,
करते हो अपने नाम का
मेरे गालों पर प्रेमिल हस्ताक्षर!
और अब तुम कभी,
विलग नहीं होने दोगे मुझे खुद से
पतझड़ हो या वसन्त
हमारी राह इक होगी,
चाह एक होगी बोलो
तुम्हारा वादा है ना जादूगर !!""
किरण मिश्रा
13.2.2017

Views 27
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
किरन मिश्रा
Posts 4
Total Views 2.4k
"ज़िन्दगी खूबसूरत कविता है,और मैं बनना चाहती हूँ इक भावनामयी कुशल कवियत्री" जन्म तिथि - 28 मार्च शिक्षा - एम.ए. संस्कृत बी. एड, नेट क्वालीफाइड, संप्रति- आकाशवाणी उद्घघोषिका(भूतपूर्व) प्रकाशित कृति- साँझा संकलन "झाँकता चाँद"(हायकु) विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में समय-समय पर प्रकाशित अनेकानेक रचनायें !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia