जाग उठी है बेटी

Kavi DrPatel

रचनाकार- Kavi DrPatel

विधा- गीत

जाग उठी है बेटी देखो अपने हिंदुस्तान की ।
बात हो रही सारे जग में अब उसके सम्मान की ।

छोटी छोटी बातों हित रोती थी घर में पड़े पड़े ।
जज बन करके आज फैसले करती है वो बड़े बड़े ।
कोई ऐसा क्षेत्र नहीं जिसमें उसकी पहचान न हो ।
सिंधु और साक्षी के जैसा भारत में अनुदान न हो ।
गीतों में बन लता घोलती सरगम वो मुस्कान की ।
जाग उठी है बेटी देखो ……..

सीता सावित्री, द्रुपदी सा गौरवमय इतिहास है ।
इनके पदचिन्हों पर चलना बेटी का विश्वास है ।
शिक्षा राजनीति में भी अब बेटों से आगे निकल गयी ।
अबला बेटी को मत समझो बनी शेरनी सँभल गयी ।
छक्के छुड़ा रही मनु बनकर थामें सैन्य कमान की ।
जाग उठी है बेटी देखो ………..

बेटी पढ़ लिखकर के अब तो भगवत कथा सुनाती है ।
यज्ञ और यज्ञोपवीत भी बेटी अब करवाती है ।
कभी घरों में जो थी दुबकी वायुयान चलाती अब ।
रिक्शे से ले रेल तलक अब सरपट वो दौड़ती सब ।
हर मोर्चे पर लगा रही वो बाजी अपने जान की ।
जाग उठी है बेटी देखो ……….

चूल्हा चौका छोड़ आज शमशान तलक वो जाती है ।
अर्थी काँधे पर रखकर बेटे का फर्ज निभाती है ।
बन करके कल्पना सुनीता आसमान को नाप लिया।
स्वर्ण परी पी.टी. ऊषा बन जग में रोशन नाम किया।
आज सफलता कदम चूमती बेटी के अरमान की ।
जाग उठी है बेटी देखो ……..

मत करो भ्रूण हत्या इसकी जग में इसको आने दो ।
जगमग ये संसार करेगी बस इसको खिल जाने दो ।
म्हकायेगी जीवन बगिया ये जिस घर को जायेगी ।
अनुपम कृति है ये ईश्वर की जग को ये हर्षायेगी ।
करो हिफाज़त मिलजुल कर सब विधना के वरदान की ।

जाग उठी है बेटी देखो अपने हिन्दुस्तान की ।
बात हो रही सारे जग में उसके अब सम्मान की ।
वीर पटेल

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 30
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Kavi DrPatel
Posts 25
Total Views 654
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता ,गीत , दोहे , छंद, मुक्तक ,गजल , द्वारा सामाजिक व ऐतिहासिक भावपूर्ण सृजन से समाज में जन जागरण करना

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia