ज़़बांं जो शाायराानाा जाानताा हैै

Salib Chandiyanvi

रचनाकार- Salib Chandiyanvi

विधा- गज़ल/गीतिका

परिन्दा ..आशियाना जानता है
फ़क़्त अपना ठिकाना जानता है

अलम बरदार है तहज़ीब नौ का
ज़बां जो शायराना ..जानता है

उसी को प्यार मिलता है जहाँ में
जो ऐबों को ..छुपाना जानता है

अभी मैं खुद से भी वाक़िफ़ नहीं हूँ
मुझे सारा…. ज़माना जानता है

उसी को ढूँढता फिरता हूँ सालिब
वो जो दिल को दुखाना जानता है

सालिब चन्दियानवी

Sponsored
Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Salib Chandiyanvi
Posts 26
Total Views 282
मेरा नाम मुहम्मद आरिफ़ ख़ां हैं मैं जिला बुलन्दशहर के ग्राम चन्दियाना का रहने वाला हूं जाॅब के सिलसिले में भटकता हुआ हापुड आ गया और यहीं का होकर रह गया! सही सही याद नहीं पर 18/20की आयु से शायरी कर रहा हूँ ! उस्ताद तालिब मुशीरी साहब का शाग्रिद हूँ पर ज्यादा तर मैने फेस बुक से सीखा जिसमें मनोज बेताब साहब, कुंवर कुसुमेश साहब, मुख्तार तिलहरी साहब का बहुत बडा हाथ है !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia