जरा बतिया ले

guru saxena

रचनाकार- guru saxena

विधा- अन्य

सवैया छंद

आदमी कि नहिं गैस मिटे चहे बीस प्रकार की औषधि खा ले
औरत को जब गैस बने वह कोई दवाई का टंटा न घाले
एक भी पैसा न खर्चे करे व भयानक गैस से राहत पाले
जा के पड़ोस में कोई सहेली से थोड़हुं देर जरा बतिया ले

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
guru saxena
Posts 32
Total Views 377

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia