जय हो मां नर्मदा

Pramod Raghuwanshi

रचनाकार- Pramod Raghuwanshi

विधा- कविता

रखे न किसी को प्यासी
रेवा मातु अविनासी
बिनती करूँ मै सभी
ध्याईये मां नर्मदा ।

जगतारिणी है यही
दुखहारिणी भी यही
प्रेम से पुकारो सभी
आईये मां नर्मदा ।।

करता यही पुकार
मातु आके तेरे द्वार
भक्तों की बिगडी
बनाईये मां नर्मदा ।

कहता प्रमोद मोद
मुझको प्रदान कर।
कृपा दृष्टि फिर
बर्षाईये मां नर्मदा ।।

🌹प्रमोद रघुवंशी🌹
दिनांक:-19-3-2017

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pramod Raghuwanshi
Posts 11
Total Views 128

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia