जयबालाजी:: भक्ति दृगों से नहीं ह्रदय से :: जितेंद्रकमलआनंद (४१)

Jitendra Anand

रचनाकार- Jitendra Anand

विधा- मुक्तक

ताटंक छंद:
भक्ति दृगों से नहीं , ह्रदयसे देखी- समझी जाती है ।
भक्ति विकलके पोछे ऑसू, भक्ति स्वर्ग कहलाती है
भक्ति गीत है, भक्ति मीत है , प्रेम पंथ है उजियाला,
नीराजन है, आराधन है , भक्ति कमल, दीपक, बाला!!
—– जितेंद्रकमलआनंद

Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Jitendra Anand
Posts 150
Total Views 940
हम जितेंद्र कमल आनंद को यह साहित्य पीडिया पसंद हैं , हमने इसलिए स्वरचित ११४ रचनाएँ पोस्ट कर दी हैं , यह अधिक से अधिक लोगों को पढने को मिले , आपका सहयोग चाहिए, धन्यवाद ----- जितेन्द्रकमल आनंद

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia