जब से फागुन आया है।

मधुसूदन गौतम

रचनाकार- मधुसूदन गौतम

विधा- गीत

जब से फागुन आया है

कौन कौन बौराया है।
जबसे यह फागुन आया है।
नारी और वारि के सह में,
सवको मद चढ आया है।
जब से फागुन आया है।
करता गुंजन अलि डोले।
कोयल कुहू कुहू बोले।
तितली अपना रंग टटोले।
अमुआ भी बौराया है।
जबसे फागुन आया है।
टेसू देखो कितना निखरा।
रंग केसरी पसरा पसरा।
रंग भंग का दिखता बिखरा।
पप्पू अभिषेक बौराया है
जब से फागुन आया है।
नारी बनती नवी नवेली।
झौपड हो फिर चाहे हवेली।
सबने मौज से होली खेली।
रसिया डूबी माया है।
जबसे फागुन आया है।
उड़दंगी बच्चो की टोली।
सबसे करती फिरे ठिठोली।
बुरा न मानो आई होली।
अनजाना भी सताया है।
जबसे फागुन आया है।

**** मधु गौतम

Views 18
Sponsored
Author
मधुसूदन गौतम
Posts 40
Total Views 572
मुझे नियमो में बंधना नही भाता ।वो बात अलग है मैं नियमो से लिखता हूँ भी।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia