जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं…..

kapil Jain

रचनाकार- kapil Jain

विधा- गज़ल/गीतिका

जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं
कहीं न कहीं तो असर छोड़ते हैं ।

जो है भीतर मुझ में,वो एक शख्स मुझी-सा
ढूंढने को जिसे हम बाहर दौड़ते हैं ।
जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं

करतें है बातें खुद से आईने में कभी तो
कभी रूठ खुदी से आईना तोड़ते हैं
जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं ।

करतें है हर कोशिश उसे पाने की कभी तो
कभी हार के खुद से उम्मीद छोड़तें है
जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं ।

बयाँ करे जो अनकहे राज दिल के
शब्दकोषो से ऐसे ही शब्द जोड़ते हैं
जब जज़्बात दिलों मे दम तोड़ते हैं
कहीं न कहीं तो असर छोड़ते हैं ।

**##@@कपिल जैन@@##**

Views 180
Sponsored
Author
kapil Jain
Posts 14
Total Views 981
नाम:कपिल जैन -भोपाल मध्य प्रदेश जन्म : 2 मई 1989 शिक्षा: B.B.A E-mail:-kapil46220@gmail.com
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia