जननी जन्म से वंचित क्यों ?

विजय कुमार सिंह

रचनाकार- विजय कुमार सिंह

विधा- कविता

दोहा
गर्भ में नहीं मारिये, जगजननी का रूप I
बिटिया घर को सींचती, पीहर सासुर कूप II

चौपाई
खुशियां मिली झूमना चाहूँ I गर्भ से नभ चूमना चाहूँ II
मानव भ्रूण के अंश में हूँ I मनुष्य के किसी वंश में हूँ II
माँ पाकर आनंदित होती I गर्भ दिखता उमंगित होती II
सारे मिलकर ख़ुशी मनाते I बेटा हो यह गाना गाते II
ख़ुशी घर में टिक नहीं पाई I सोच बेटी की नहीं भाई II
जिज्ञासा ने यह ज्ञान दिया I बेटी होने का भान दिया II
सोच बेटी भयभीत होते I चिंता के वशीभूत होते II
जन्म के पूर्व बात कर्ज की I चिंता दिन रात थी फर्ज की II
ब्याह को धन कैसे जुटेगा I बेटी भाग कैसे जगेगा II
खूब चला घर भर में मंथन I भ्रूण हटा दो सभी का कथन II
माँ यह सुन भयभीत हो गयी I बेटी की मौत सुन खो गयी II
सबके आगे मौन हो गयी I न चाहकर भी गौण हो गयी II
गर्भ में ही दर्द की बारिश I किससे करूँ जीवन गुजारिश II
किस्मत की गागर फूट गयी I जिंदगी की कड़ी टूट गयी II
किसी ने मुझे पूछा होता I बिन विवाह भी जीवन होता II
बेटों सा ही मैं जी लेती I घरवालों के गम पी लेती II
धन की चिंता भी मिट जाती I खूब कमाकर मैं घर लाती II
माँ मुझपर जो यकीन करती I बेटी होकर धन्य समझती II
विचारों में बदलाव होता I गर्भ का बीज यूँ ना रोता II
बिटिया को जो शक्ति समझते I चाहत मारने की न रखते II
कल्पों शिव का त्याग देखिये I जगजननी का भाग देखिये II
जब जगजननी का जन्म हुआ I तब सृष्टि का उद्धार हुआ II
बिन बेटी के वंश न होता I बेटों का भी ब्याह न होता II
कैसा यह उपाय है भाया I जन्म से पूर्व मुझे मिटाया II

दोहा
बेटी को संजोइये, ना करें लिंग भेद I
पड़े ना जताना उसे, गर्भ में यही खेद II

Views 256
Sponsored
Author
विजय कुमार सिंह
Posts 9
Total Views 400
नाम : विजय कुमार सिंह पिता : स्वर्गीय राम नारायण प्रसाद माता : स्वर्गीय सीता मणि देवी जन्म वर्ष : १९६७ जन्मस्थान : पटना, बिहार, भारत शिक्षा : स्नातक दिल के भावों को लेखनी का सहारा है, समाज को बेहतर बनाना कर्तव्य हमारा है. आइये आपका स्वागत है हमारे लेखन के दरबार में, पलकें बिछाए बैठे हैं हम आपके इंतज़ार में. vijaykumarsinghblog.wordpress.com
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia