बेटी की महिमा

Rita Singh

रचनाकार- Rita Singh

विधा- कविता

सूखा पीड़ित देख नगरी को
बेटी ने अवतार लिया ,
धरती से उत्पन्न होकर उसने
जनता का उद्धार किया ।
अन्न जल बरसा जनकपुरी में
पिता जनक को मान दिया ,
पितृ कुल की पहचान बनी वो
जानकी उसने नाम लिया ।
राजा कुंतीभोज सदा ही
बेटी कुंती पर गर्वित होते थे
जिसके सेवा सुशील गुणों से
दुर्वासा भी प्रसन्न रहते थे ।
दे दी शक्ति जिसे मुनिवर ने
देवों के भी आह्वान की
वो कुंतीभोज की बेटी कुंती
बनी निर्मात्री पांडु कुल की ।
यज्ञ से उत्पन्न हुई याज्ञसैनी
जो महाराज द्रुपद की बेटी थी
कुरूवंश की कुरूपता की
वो प्रमुख संहारक थी ।
कर प्रतिग्या अधर्म नाश की
भगवन का उसने नाम लिया ,
रक्षा कर नारी सम्मान की
प्रभु ने भी उसको मान दिया ।
राजर्षि अश्वपति की कन्या
सावित्री अटल व्रतधारी थी,
यमदेव की अमिट नियमावली
उसके ही समक्ष हारी थी ।
वह ऐसी बेटी थी जिसने
जीवन को भी जीत लिया,
पिता – पति दोनों के कुल का
उज्ज्वल उसने नाम किया ।
हर युग में , हर काल में
बेटी ने पहचान बनायी है ,
त्रेता,द्वापर से कलयुग तक
बेटी की महिमा छायी है ।
वेद पुराण और महाकाव्यों ने
बेटी की महिमा को गाया
बड़ा अभागा है वो समाज जो
गुण बेटी के जान न पाया ।

डॉ रीता
एफ-11,फेज़-6
आया नगर,नई दिल्ली- 47

Views 192
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Singh
Posts 82
Total Views 3.4k
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन बनाए रखने की कल्पना ही कलम द्वारा कुछ शब्दों की रचना को प्रेरित करती है , वही शब्द रचना मेरी कविता है । .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia