~~~जज्बात~~~

Vinod Chadha

रचनाकार- Vinod Chadha

विधा- कविता

इतने
जज्बात निकलेँगेँ
दिल से मेरे
कभी सोचा न था

सोने न देंगें
चैन से
रात भर मुझे
कभी सोचा न था

बयां कब तक करूँ
कहाँ तक करूँ
ख़त्म न होंगें यह
कभी सोचा न था

लिखते लिखते
थकने लगी हैं
उंगलियां भी मेरी
निकलते रहेंगें
यह हर रोज इस तरह
कभी सोचा न था

थक जाएँगे लोग भी
पढ़ते पढ़ते
यह अशफाक मेरे
उफ़…कब ख़त्म होगा
यह सिलसिला
कभी सोचा न था ।।

…विनोद चड्ढा…

Sponsored
Views 39
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Vinod Chadha
Posts 3
Total Views 69

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia