“जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया “

दुष्यंत कुमार पटेल

रचनाकार- दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

विधा- कविता

यहाँ अजन्मी मर जाती है,
क्यों माँ कि कोख पर बिटिया|
देवी का अनूप रुप है,
जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया |
संस्कार धरोहर आन शान,
रीत प्रीत धन है बिटिया |
ईश्वर का अनुनय अनुराग है ,
रब कि अमानत है बिटिया|

मासूम कली है बाबुल की,
घर आँगन की किलकारी |
सुकुमारी राजदुलारी है,
हर बिटिया राजकुमारी|
बिटिया कन्या रुपी रत्न है,
जग में है सबसे प्यारी |
पढा लिखा कर उसे संवरना,
सबकी है जिम्मेदारी |

है लाड़ली सयानी बिटिया,
नव खुशियों की है धानी |
खेल-खिलौने टेड़ी बियर कि,
मेरी बिटिया दीवानी |
जग सिध्दि समृध्दी शांति क्रांति,
चन्द्रसूर्य बिटिया रानी |
तरणी हिम्मती करुणामयी,
जग जननी बिटिया रानी |

खेली कूदी बिटिया रानी,
बाबुल के घर आँगन में |
वो छोड़ चली बाबुल घर को,
बंध गया गठबंधन में |
ससुराल चली बिटिया मेरी,
मीठा कसक आज मन में |
है गुपचुप ना कोई आहट,
सूनापन है आँगन में |

उस घर को भी बिटिया तुम,
रीत प्रीत से महकाना |
सबकी यादें दिल में रखना,
पापा को भूल न जाना |
तुमको घर की याद सतायें,
तो तुम मिलने आ जाना |
वो मेरी शहजादी बिटिया ,
यूँ ही हँसना मुस्काना |

नज़रिया घिनौना सोच बदल,
अन्तर्मन को निर्मल कर |
माल लालीपाप नाम नहीं ,
फ़िल्मी स्टाईल बंद कर |
कुदृष्टि का सर्वनाश कर,
बेटियों का सम्मान कर |
बिटिया है पावन गंगा सी,
अब प्रण करले न मलिन कर |

रचनाकार :-दुष्यंत कुमार पटेल"चित्रांश"

Sponsored
Views 95
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दुष्यंत कुमार पटेल
Posts 100
Total Views 6.8k
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia