“जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया “

दुष्यंत कुमार पटेल

रचनाकार- दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

विधा- कविता

यहाँ अजन्मी मर जाती है,
क्यों माँ कि कोख पर बिटिया|
देवी का अनूप रुप है,
जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया |
संस्कार धरोहर आन शान,
रीत प्रीत धन है बिटिया |
ईश्वर का अनुनय अनुराग है ,
रब कि अमानत है बिटिया|

मासूम कली है बाबुल की,
घर आँगन की किलकारी |
सुकुमारी राजदुलारी है,
हर बिटिया राजकुमारी|
बिटिया कन्या रुपी रत्न है,
जग में है सबसे प्यारी |
पढा लिखा कर उसे संवरना,
सबकी है जिम्मेदारी |

है लाड़ली सयानी बिटिया,
नव खुशियों की है धानी |
खेल-खिलौने टेड़ी बियर कि,
मेरी बिटिया दीवानी |
जग सिध्दि समृध्दी शांति क्रांति,
चन्द्रसूर्य बिटिया रानी |
तरणी हिम्मती करुणामयी,
जग जननी बिटिया रानी |

खेली कूदी बिटिया रानी,
बाबुल के घर आँगन में |
वो छोड़ चली बाबुल घर को,
बंध गया गठबंधन में |
ससुराल चली बिटिया मेरी,
मीठा कसक आज मन में |
है गुपचुप ना कोई आहट,
सूनापन है आँगन में |

उस घर को भी बिटिया तुम,
रीत प्रीत से महकाना |
सबकी यादें दिल में रखना,
पापा को भूल न जाना |
तुमको घर की याद सतायें,
तो तुम मिलने आ जाना |
वो मेरी शहजादी बिटिया ,
यूँ ही हँसना मुस्काना |

नज़रिया घिनौना सोच बदल,
अन्तर्मन को निर्मल कर |
माल लालीपाप नाम नहीं ,
फ़िल्मी स्टाईल बंद कर |
कुदृष्टि का सर्वनाश कर,
बेटियों का सम्मान कर |
बिटिया है पावन गंगा सी,
अब प्रण करले न मलिन कर |

रचनाकार :-दुष्यंत कुमार पटेल"चित्रांश"

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 72
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
दुष्यंत कुमार पटेल
Posts 86
Total Views 3.5k
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia