जगत रचयिता पूछ रहा है ,, बोलो युवा कौन हो तुम

सदानन्द कुमार

रचनाकार- सदानन्द कुमार

विधा- कविता

जगत रचयिता पूछ रहा है
बोलो युवा कौन हो तुम ,,,,

शांत जल की नीरवता हो या
अपार ऊर्जा का कोलाहल हो तुम ,,,,

सिद्ध पुराने समीकरणो को पंगू करते
अधुनातन रीत का मंडन हो तुम ,,,,
या
विभत्स बड़ा जो जान पर भारी
रिवाजो का खंडन हो तुम ,,,,

जगत रचयिता पूछ रहा है
बोलो युवा कौन हो तुम ,,,,

बड़े खड़े बाधाओ पर भारी
विजय केवल विजय लक्ष्य को अभिशप्त हो तुम ,,,,
या
न्याय प्रियो के अश्रुओ से निकले
निर्भिक प्रचंड ज्वाला से तप्त हो तुम ,,,,

कृत्य सहित जो धर्म का सूचक
ऐसा विचारो का उत्थान हो तुम ,,,,
या
बे बंधन उन्मुक्त अंबर का जीवंत उड़ता ज्ञान हो तुम ,,,,

जगत रचयिता पूछ रहा है
बोलो युवा कौन हो तुम ,,,,

झांको अंदर सलीके से अभी युवा
क्या
राष्ट्र भाग्य को लिखने वाले
प्रत्यक्ष द्रुत देव हो तुम ,,,,

सदानन्द
31 जुलाई 2017

Sponsored
Views 55
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सदानन्द कुमार
Posts 8
Total Views 731
मै सदानन्द, समस्तीपुर बिहार से रूचिवश, संग्रहणीय साहित्य का दास हूँ यदि हल्का लगूं तो अनुज समझ कर क्षमा करे Whts app 9534730777

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia