जख्म

शिवम राव मणि

रचनाकार- शिवम राव मणि

विधा- शेर

क्या बताऊँ क्या हुआ है साथ, बस एक कश्ति-सी चल रही थी
बाँट भी ना पाये जिसे, साथ मेँ वो जख्मोँ की बस्ती चल रही थी
न तीर से, न तलवार से सीने मेँ जो गड़ता गया
काँटा भी न हो सका जो बदन मेँ मेरे एक चुभन दे गया
कहूँ तो एक वक्त था जब रात की अँधेरियोँ से दोस्ती हो गई
वो मुझे जगाते रह गये और दुनिया सोती रह गई
अमावस के सन्नाटे मेँ जब दर्द भी गर्जना बन गये
देख तड़प मेँ किसी की नीँद खुली, वो भी बेबस होकर मुहँ पर चादर ओढ़ गये
राहत मिले तो अन्दर एक डर समा जाए
खोदता गया जो भीतर ही भीतर, मेहमान-नवाजी वो मुझसे ही करवाये
चोट भी एसी लगी है जिसमेँ लहू भी ना बहेँ
दर्द होता रहे और घाव का निशान भी ना रहेँ
वेदना भी जब गूँज उठी उस काली रात की चुपाई मेँ
जख्म तो जरूर मिला है उस चोट की सुनवाई मेँ

Sponsored
Views 40
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शिवम राव मणि
Posts 10
Total Views 213

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia