छोड़ दी है………….तेरे ही लिये |गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- गीत

छोड़ दी है नौकरी भी तेरे ही लिये
लगने लगे चक्कर गली तेरे ही लिये

देखा तुझे गाने लगा गीत भी दिल
तेरे इस मुखड़े पे ये मरने लगा दिल
सौ – सौ बार सवारूँ जुल्फें तेरे ही लिये
जब दिख जाती बढ़ती धड़कन तेरे ही लिये

छोड़ दी है………………………………. तेरे ही लिये

नायिका है मेरी तू जूलियट से कम नही
मन की है मिठास तू जो होती कम नही
कब से बाहें हम फैलाये खड़े तेरे ही लिये
कर दो तुम उजियारा मन में मेरे ही लिये

छोड़ दी है………………………………. तेरे ही लिये

हँसती रो हँसाती रहो गुस्सा ना करो
हाठ भी छोड़ो मान जाओ मुँह ना मोड़ो
आँखें ना चुराओ मैं हूँ तेरे ही लिये
कर दूँ मैं न्यौछावर जीवन तेरे ही लिये

छोड़ दी है………………………………. तेरे ही लिये

“मनोज कुमार”

Views 2
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 38
Total Views 392
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia