छोटी छोटी बातें

aparna thapliyal

रचनाकार- aparna thapliyal

विधा- अन्य

पानी
आँखों के समंदर मे हहराता खारा पानी
निशब्द रह कर भी सुना जाता है
दर्द की परतों में दबी सुन्न कहानी।

*****************************

बचपन

गये लम्हे वो बचपन के फिर से याद आते हैं
मासूमियत पीछे छूटने के गम सताते है।

चलो फिर से उन्ही गलियों में हम चक्कर लगा आयें
गई यादों के बिखरे मोतियों को बीन कर लायें।

पिरो उन मोतियों को फिर से इक माला बनाते हैं
झूला आम की डाली पे फिर से झूल आते हैं।

गली में दौड़ कर साइकिल का चक्का फिर चला आयें
बनाया था जो रावण कतरनों से वो जला आयें।

पुराने खंडहरों में नये दीपक चल जलाते हैं
नये बचपन की आँखों में चलो सपने सजाते हैं।
******************************

दिखावा

नादानी हैै दिखावा
खोखलेपन की –
निशानी है दिखावा
सत्य ही शिव है
शिव ही सुन्दर है
शिव होने के लिए
सत्य ही है पहनावा
फिर निहायत
गैर ज़रूरी है दिखावा।

Views 4
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
aparna thapliyal
Posts 24
Total Views 128

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia