“छात्र”

Prashant Sharma

रचनाकार- Prashant Sharma

विधा- कुण्डलिया

छात्र देश की शान है,माने सकल जहान
अवसर गर उसको मिले,बढ़े सभी का मान
बढ़े सभी का मान, जगत् रोशन कर डालें
कर विद्या का दान,ज़िन्दगी सफल बना लें.
कह प्रशांत कविराय,बात यह मैंने पेश की.
सच है मेरे यार,शान हैं छात्र देश की.

प्रशांत शर्मा "सरल"
नरसिंहपुर
मो.9009594797

Views 10
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Prashant Sharma
Posts 29
Total Views 1.1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia