छंद: मनहरण घनाक्षरी

Ambarish Srivastava

रचनाकार- Ambarish Srivastava

विधा- कविता

किंचित न अभिमान, रखते सभी का ध्यान,
राग-द्वेष कटुता से, रीते रहें मोदीजी.
देश से ही करें प्यार, माटी चूमें बार-बार,
स्नेह प्रेम रसधार, पीते रहें मोदीजी.
सिंह सी सुनें दहाड़, बैरियों के कांपें प्राण,
शत्रु वक्ष फाड़-फाड़, सीते रहें मोदी जी.
मोदी जी पे हमें नाज़, जन्मदिन आया आज,
जिंदा रहे मोदीराज, जीते रहें मोदीजी..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव 'अम्बर'

Views 38
Sponsored
Author
Ambarish Srivastava
Posts 74
Total Views 321
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि अम्बरीष श्रीवास्तव एक प्रख्यात वास्तुशिल्प अभियंता एवं मूल्यांकक होने के साथ राष्ट्रवादी विचारधारा के कवि हैं। प्राप्त सम्मान व अवार्ड:- राष्ट्रीय अवार्ड "इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी अवार्ड 2007", "अभियंत्रणश्री" सम्मान 2007 तथा "सरस्वती रत्न" सम्मान 2009 आदि | email:ambarishji@gmail.com
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia