छंद: मनहरण घनाक्षरी

Ambarish Srivastava

रचनाकार- Ambarish Srivastava

विधा- कविता

किंचित न अभिमान, रखते सभी का ध्यान,
राग-द्वेष कटुता से, रीते रहें मोदीजी.
देश से ही करें प्यार, माटी चूमें बार-बार,
स्नेह प्रेम रसधार, पीते रहें मोदीजी.
सिंह सी सुनें दहाड़, बैरियों के कांपें प्राण,
शत्रु वक्ष फाड़-फाड़, सीते रहें मोदी जी.
मोदी जी पे हमें नाज़, जन्मदिन आया आज,
जिंदा रहे मोदीराज, जीते रहें मोदीजी..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव 'अम्बर'

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 62
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Ambarish Srivastava
Posts 74
Total Views 412
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि अम्बरीष श्रीवास्तव एक प्रख्यात वास्तुशिल्प अभियंता एवं मूल्यांकक होने के साथ राष्ट्रवादी विचारधारा के कवि हैं। प्राप्त सम्मान व अवार्ड:- राष्ट्रीय अवार्ड "इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी अवार्ड 2007", "अभियंत्रणश्री" सम्मान 2007 तथा "सरस्वती रत्न" सम्मान 2009 आदि | email:ambarishji@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia