चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग

बबीता अग्रवाल #कँवल

रचनाकार- बबीता अग्रवाल #कँवल

विधा- गज़ल/गीतिका

221 2121 1221 2121

चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग
फिर खुद को आईने से बचाने लगे हैं लोग

आदर्श आज सिर्फ़ किताबों में रह गए
माँ -बाप को भी आँख दिखाने लगे हैं लोग

मानिंद-ए- खुदा खुद को समझते थे जो यहां
मोदी के खौफ़ से वो ठिकाने लगे हैं लोग

पिंजरे में कैद करके परिंदों को खुश हुए
क्यों व्यर्थ पाप रोज़ कमाने लगे हैं लोग

लफ़्फ़ाज़-लफंगों से न करती है कँवल बात
बेशक़ मुझे मग़रूर बताने लगे हैं लोग

Views 74
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
Posts 51
Total Views 3.4k
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia