चूड़ियाँ……

Ramesh chandra Sharma

रचनाकार- Ramesh chandra Sharma

विधा- गीत

चूड़ियाँ मुझको तब लुभाती हैं,
जब अनायास ही बज जाती हैं|
एक संगीत की सी स्वर लहरी,
बस मेरे मन में उतर जाती है|

मुझको वो खनखनाहट भाती है,
माँ के हाथों से जब भी आती है|
जब बनाकर वो प्यार से खाना,
अपने हाथों से खुद खिलाती है|
मुझको वो खनखनाहट भाती है..

मुझे वो खनखनाहट भाती है,
चाहे वो दूर से ही आती है|
राखियाँ बांधकर मेरी बहना,
आँख से नीर छलछलाती है|
मुझे वो खनखनाहट भाती है|

मुझे वो खनखनाहट भाती है,
हर समय मन को गुदगुदाती है|
जब भी आता हूँ मैं थका हारा,
बेटी सीने से लिपट जाती है|
मुझे वो खनखनाहट भाती है..

मुझे वो खनखनाहट भाती है,
मौन है फिर भी कुछ तो गाती है|
अलसुबह रोज़ जब प्रिया मेरी,
नहा के तुलसी को जल चढ़ाती है|
मुझे वो खनखनाहट भाती है,

-आर सी शर्मा "आरसी"
"दीपशिखा" विद्या विहार,
कोटा-342002

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ramesh chandra Sharma
Posts 34
Total Views 1.8k
गीतकार गज़लकार अन्य विधा दोहे मुक्तक, चतुष्पदी ब्रजभाषा गज़ल आदि। कृतिकार 1.अहल्याकरण काव्य संग्रह 2.पानी को तो पानी लिख ग़ज़ल संग्रह आकाशवाणी कोटा से काव्य पाठ कई साहित्य सम्मान एवं पुरुस्कारों से सम्मानित

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment