” ————————————— चुनरी सरकी जाये ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- गीत

दप दप करता रूप तुम्हारा , ऋतुओं सा बल खाये !
आग का गोला काहे बरसे , तुमसे सहा न जाये !!

नज़रें हैं बेताब बता दो , किसकी है अगवानी !
इंतज़ार का पल पल आखिर , हाथों में ने आये !!

बाग बगीचे पीछे छूटे , राह नई है पकड़ी !
आज हवा से करती बातें , चुनरी सरकी जाये !!

रंग बिरंगे परिधानों में , निकली हो सज़ धज कर !
आज मुसाफिर का कसूर क्या , राहें भूला जाये !!

कौन कोण से देखें तुमको , नाज़ों अदा कायम है !
यहां रूप की गागर देखो , लहराती बल खाये !!

कौन लक्ष्य ठाना है दिल में , किसको आज पता है !
अंतरतम के भाव तुम्हारे , हम तो जान न पाये !!

आज लबों पर है खामोशी , खुशियां भी गुमसुम हैं !
दूर का राही तुमसे कोई , ठगी नहीं कर जाये !!

बृज व्यास

Views 110
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 105
Total Views 26.9k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia