चाहत

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- मुक्तक

चाहत न हो जब तक, यूं ही मुलाकात नहीं होती
धड़कता दिल न जब तक, दिल की बात नहीं होती
तलबगार न हो जब तक ,…..दो दिल इक दूजे का
उल्फत की यूं ही बेवजह ,…….शुरुआत नहीं होती

रीता यादव

Sponsored
Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 37
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia