चार चोका

प्रदीप कुमार दाश

रचनाकार- प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

विधा- अन्य

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
———————
चार चोका
¤¤¤¤¤¤¤
01.
पूर्वा की गोद
खेले शिशु सूरज
भव्य ये दृश्य
खिल उठी री धूप !
देख प्रसन्न
बगिया के सुमन
हो कर मोद
पंछी के कलरव
करें भोर स्वागत ।
☆☆☆☆☆☆☆☆☆

02.
रंग रात के
मानो वे भेद रहे
मर्म तम के
या कहूँ जीवन के
हृदय गुफा
गहन अंधकार
सुख व दुःख
नीरवता की लहरें
बुन चलीं सन्नाटे ।
☆☆☆☆☆☆☆☆☆

03.
बढ़ी तपन
सूखने लगी घास
अब की बार
चिड़िया के मन में
जगी है आस
चुन चुन तिनके
बुनेगी नीड़
देख प्रसन्न पंछी
खुले सृजन द्वार ।
☆☆☆☆☆☆☆☆☆

04.
शैल खण्डों में
जाग उठी चेतना
आस्था से प्रीत
नयन ये तृषित
प्राण व्याकुल
गीत कलकल के
गाते सस्वर
निश्चल व निश्छल
बह चले निर्झर ।
☆☆☆☆☆☆☆☆☆

■ प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
मो.नं- 7828104111

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 5
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
प्रदीप कुमार दाश
Posts 15
Total Views 302
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 09 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद व प्रकृति की गोद में ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia