चलो आज कही चलते है

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- कहानी

चलो आज कही चलते है ।
कुछ मेरी कुछ तुम्हरी सुनते है सुनाते है ।
इन डगर पर हाथो में हाथ पकड़कर कुछ गनगुनाते है ।
चलो आज कही घूम कर आते है ।
कुछ खटी मीठी यादो के लम्हो में हो कर आते है ।
कुछ किस्से दोहराते है ।
तुम्हे याद है उस नदी के किनारे पर फिसलते हुए तुमने मेरा हाथ थाम था । चलो आज उस नदी के पास कुछ वक्क्त बिताकर आते है ।
……चलो आज कही चलकर आते है ।
बिते हुए लम्हो को थोड़ा सा घूमकर आते है ।

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 17
Total Views 309

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia