चली गई इंसानियत

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

खबरें अब अखबार की,लगती है नासूर !
चली गई इंसानियत, छोड शहर को दूर !!

काँटे जीवन मे हमे,करना पडे कबूल !
सींचा दोनो हाथ से,हमने अगर बबूल!!

मारें घर मे नक्सली,..सीमा पर शैतान !
इतनी सस्ती हो गई,वीरों की अब जान !!

समझें भाषा तोप की,वो जो सदा रमेश !
उनसे आना चाहिए,..तोपों से ही पेश! !
रमेश शर्मा.

Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 167
Total Views 2.6k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia