चलती है बेटियाँ

कृष्णकांत गुर्जर

रचनाकार- कृष्णकांत गुर्जर

विधा- कविता

मंजिल की राह मे,चलती है बेटियाँ |
चलती है बेटियाँ, बढ़ती है बेटियाँ ||

दिल हजारो अरमां,संजोती है बेटियाँ |
संजोती है बेटियाँ, पिरोती है बेटियाँ ||

अपनो का प्यार पाकर,हँसती है बेटियाँ|
हँसती है बेटियाँ,रोती है बेटिया ||

माँ बापू आन,शान है बेटियाँ|
शान है बेटियाँ, जान है बेटियाँ||

कृष्णा की नयनतारी,प्यारी है बेटियाँ|
प्यारी है बेटियाँ, न्यारी है बेटियाँ||

Sponsored
Views 77
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कृष्णकांत गुर्जर
Posts 61
Total Views 2.8k
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia