चक्रव्यूह और मैं !

Neeraj Chauhan

रचनाकार- Neeraj Chauhan

विधा- कविता

अब भी कुछ बिगड़ा नहीं हैं,
इतना समय गुज़रा नहीं हैं
पता नहीं की हार होगी,
या फिर होगी विजय;

अब समक्ष दिखता यही बस;
चक्रव्यूह और मैं !

मारा जाऊंगा अभिमन्युवत्,
या कृष्ण के सुदर्शन सा चीर दूंगा
इस धधकती ज्वाला में ,
मैं किन कर्मों का नीर दूंगा;
सोचता हूँ दिन रात, अब बस यह

हैं समक्ष दिखता यही अब,
चक्रव्यूह और मैं !

कोसूंगा असमय हाथ छोड़ने वाले को,
या समझदार हो जाऊंगा
इस मीठी-छलिया दुनियां से,
कहो कैसे पार मैं पाउँगा?
ये रात हुई 'पक्षपाती'
जाने कब होगी सुबह

अब समक्ष दिखता यही बस;
चक्रव्यूह और मैं !

– © नीरज चौहान

Views 64
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeraj Chauhan
Posts 57
Total Views 5.6k
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia