घोर कलयुग

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- कविता

घोर कलयुग लिया पनाह हैl
अच्छाई ही बड़ा गुनाह है l

अच्छे बुरे का भेद नहीं,
बुराई करके खेद नहीं ,

अच्छाई दर-दर ठोकरें खाती हैl
बुराई मौज मनाती हैl

सत्य यहां स्वीकार नहीं ,
झूठे को धिक्कार नहीं,

सत्य साबित कर कर के थक जाता है l
झूठ इस कदर हावी है, कि सत्य नहीं कोई सुन पाता है l

सत्य बेचारा इस कलयुग में तड़प-तड़प मर जाता है l
झूठ गर्व से अपने झूठे शीश को तनकर उठाता हैl

Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 35
Total Views 1.3k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia