घूँघट

शाम्भवी मिश्रा

रचनाकार- शाम्भवी मिश्रा

विधा- गीत

मर्यादा का घूँघट,मत खोल राधा प्यारी।
तेरे नैनो के दीवाने,हैं मोहन कृष्ण मुरारी।।

सजती माथे पर बिंदिया,
शत् दीप प्रज्वल्लित होते।

जब-जब छनके पायलिया,
मोहित मयूर सुध खोते।।

कल्पना है मोहन की,राधा वृषभानु दुलारी।
तेरे नैनो के दीवाने,है मोहन कृष्ण मुरारी।।

मर्यादा का घूँघट,मत खोल राधा प्यारी।
तेरे नैनो के ……

छवि रूप राशि मन मोहन,
मोहित करते मृदु बैना।

लगे चन्द्र लजाता जैसे,
घूँघट धर ओट दो नैना।।

दिन रैन राह तकते है,यमुना तट कुञ्ज बिहारी।
तेरे नैनो के दीवाने,है मोहन कृष्ण मुरारी।।

मर्यादा का घूँघट,मत खोल राधा प्यारी।
तेरे नैनो के दीवाने……

शाम्भवी मिश्रा

Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शाम्भवी मिश्रा
Posts 3
Total Views 421
शाम्भवी मिश्रा,उम्र-19 वर्ष,शिक्षा-स्नातक अध्यनरत ,कानपुर उत्तर प्रदेश पिता -श्री राजेश कुमार मिश्रा,माता-श्री मति मधुमाला मिश्रा। जन्म-14/10/1997 संपर्क सूत्र-7272821068

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia