गज़ल

rekha mohan

रचनाकार- rekha mohan

विधा- कविता

गज़ल
का –आर रदीफ –का
2122 2122 212
दाग लग जाएँ जो अगर इकरार को
ध्यान रक्खो दामने किरदार का |
तोहफा पाये कही तकरार का
होश आये ले सदा उपकार का |
राहते हो मान सा इतवार का
मध्य ना हो सोच सा दीवार का |
शान में हो कदम बीरो गान का
सर कलम पाये सदा गद्दार का |
बोट मागे जान सब अधिकार का
ना फिसल कहना यही इतवार का |
बीज बोते देश में जो भेद के
काट लो अब शीश उस हुंकार का|
रेखा मोहन २६/३/२०१७

Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
rekha mohan
Posts 7
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia