गज़ल—– निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं

निर्मला कपिला

रचनाकार- निर्मला कपिला

विधा- गज़ल/गीतिका

गज़ल—– निर्मला कपिला
उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं
वक्त की सौगात ले कर छल रहे हैं

ढूंढते हैं नित नया सूरज जहां मे
ख्वाबों की बारात ले कर चल रहे हैं

कट ही जायेगी खुशी से ज़िन्दगी ये
हाथ मे वो हाथ लेकर चल रहे हैं

ताउम्र बन्धन न टूटे गा ये अपना
प्यार के जज़्बात ले कर चल रहे हैं

नींद अपनी आज कुछ रूठी हुयी है
पलकों पे हम रात ले कर चल रहे हैं

उनको झगडे का बहाना चाहिये था
फिर पुरानी बात ले कर चल रहे हैं

हम सफर मिलते रहे पर बेवफा से
रिश्तों के आघात ले कर चल रहे हैं

नेताओं का स्तर इतना गिर गया है
इक टका औकात ले कर चल रहे हैं

देखती है राह जनता राहतों की
काम उल्कापात ले कर चल रहे हैं

Sponsored
Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निर्मला कपिला
Posts 71
Total Views 12.9k
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment