यूँ ही राधा-कृष्ण का नाम नहीं होता, ….”एस के राठौर”

Suneel Rathore

रचनाकार- Suneel Rathore

विधा- अन्य

गुलाब मुहब्बत का पैगाम नहीं होता,
चाँद चांदनी का प्यार सरे आम नहीं होता,
प्यार होता है मन की निर्मल भावनाओं से,
वर्ना यूँ ही राधा-कृष्ण का नाम नहीं होता…

Sponsored
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Suneel Rathore
Posts 6
Total Views 1

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia