गुरूर

SHISHIR KUMAR

रचनाकार- SHISHIR KUMAR

विधा- कविता

उड़ते हुए परिन्दों के पर नहीं काटा करते
जंगल के शेर को लोहे की
सलाखों के पीछे नहीं डाला करते

इम्तिहान चरागों का भी लेती है आंधियां
वक़्त के पंजों से इंसान भागा नहीं करते

बड़े हौसले वालों को भी देखा है टूटते यहाँ
घमण्ड न कर, वक़्त का दरिया
जब बाँध को तोड़ता है
उसके सैलाब में सब खण्डहर हो जाता है

गुरुर का टूटना अच्छा है दोस्तों
वक़्त तुम्हें फिर से इंसान बना देता है |
शिशिर कुमार

Sponsored
Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
SHISHIR KUMAR
Posts 1
Total Views 34

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia