गुरुवर तुम्हें नमन है

Satish Mapatpuri

रचनाकार- Satish Mapatpuri

विधा- कविता

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम .
जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम .
समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान .
जिसने कहा कि एक है ,कह लो रहीम – राम .
भगवान से भी पहले ,करता नमन उन्हीं को .
मानों तो हैं खुदा वो , ना मानों तो हैं आम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
माटी के हम थे लोंदे .मूरत बनाया तुमने .
सूरत मिली खुदा से , सीरत सिखाया तुमने.
माँ- बाप ने जना पर , हमको सजाया तुमने .
इंसान की शक्ल थी , इन्सां बनाया तुमने.
जीवन संवारा तुमने , तुमने हमें गढ़ा है .
यीशु कहूँ या मौला , वाहे गुरु या राम .
गुरुवर तुम्हें नमन है , गुरुवर तुम्हें प्रणाम .
…… सतीश मापतपुरी
गुरु पूर्णिमा की शुभकामना

Sponsored
Views 31
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Satish Mapatpuri
Posts 19
Total Views 249
I am freelancer Lyricist,Story,Screenplay & Dialogue Writer.I can work from my home and if required can comedown to working placernfor short periods...I can Write in Hindi & Bhojpuri.Having 30 years experience in this field.rn

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment
  1. वाह्ह्ह् बहुत सुन्दर । आपको भी गुरु पर्व की शुभकामनाये।