गीत

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- गीत

काफियाःते
रदीफः हैं।

सुमन, पुष्प बागबां में नवनीत ही खिलते रहते हैं ।
कभी पतझड़ कभी बहार में दिल मिलते रहते हैं।

हमारे दिल में हैं रहते …. हमें बेग़ाना कहते हैं।
इसी मासूमियत पे… यार हम दिवाने रहते हैं।

मेरे दिलबर को प्यारी यादों के किस्से न याद रहते हैं।
उन्हें बस बेमुरव्वत मुफलिसी के हिस्से याद रहते हैं।

तेरी ही याद में जो अशआर ज़ुबां पर नीलम आते हैं
उन्हें दिल की कलम से यार अकेले लिखते रहते हैं।

नीलम शर्मा

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 213
Total Views 1.9k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia