गीत

Ravi Sharma

रचनाकार- Ravi Sharma

विधा- गीत

उलझ- उलझ कर सुलझ- सुलझ कर, फिर से उलझ जाती हूँ ।
तुम्हें जब उदास पाती हूँ ।

मचल- मचल कर, संभल- संभल कर, फिर से मचल जाती हूँ ।
जब दिल के पास पाती हूँ ।

बिखर- बिखर कर, सिमट- सिमट कर, फिर से बिखर जाती हूँ ।
जब दूर तुमको पाती हूँ ।

भटक- भटक कर, ठहर- ठहर कर, फिर से भटक जाती हूँ ।
जब ख़ुद से ख़फ़ा पाती हूँ ।

निखर-निखर कर, संवर- संवर कर, फिर से निखर जाती हूँ।
जब प्यार तेरा पाती हूँ ।

श्रीमती रवि शर्मा

Views 86
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ravi Sharma
Posts 9
Total Views 158
परिचय- आप एक लेखिका,कवयित्री एवं शिक्षिका हैं। पिछले लगभग ४४ वर्षों से आप मंच पर कवितापाठ करती आ रही हैं। आपके दो काव्य- संग्रह भी प्रकाशित हुए हैं। १. काव्य- किरण ( नव कवियों के लिए )२. काव्य- उमंग ( स्कूली बच्चों के लिए ) इसमें अनेक काव्य- विधाओं में, सरल भाषा में रचनाएँ लिखी गयीं हैं ।अक्सर प्रतिष्ठित संस्थाओं से सम्मान प्राप्ती एवं समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, संग्रहों में रचना प्रकाशन होता है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia