गीत- ये पहचान भी ले ले

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गीत

गीत- ये पहचान भी ले ले
●●●●●●●●●●●●●

ये दिल जो तोड़ डाला है
तो अब ये जान भी ले ले
है घर जो कर दिया सूना
तो ये पहचान भी ले ले

घर-बार तुमसे था
संसार तुमसे था
ग़म था नहीँ कोई
जब प्यार तुमसे था
टूटे इक प्यार की खातिर
तूँ सूरज-चाँन भी ले ले-
ये दिल जो तोड़ डाला है
तो अब ये जान भी ले ले

अपना बनाया था
दिल मेँ बसाया था
आधे सफर मेँ ही
दामन छुड़ाया था
तुम्हेँ जो है खुशी तो सुन
मेरा सम्मान भी ले ले-
ये दिल जो तोड़ डाला है
तो अब ये जान भी ले ले

कुछ ग़र नहीँ तो क्या
है घर नहीँ तो क्या
नभ मेँ चला हूँ मैँ
जो पर नहीँ तो क्या
गर जो दिल को तसल्ली दे
मेरे अरमान भी ले ले-
ये दिल जो तोड़ डाला है
तो अब ये जान भी ले ले

– आकाश महेशपुरी

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 80
Total Views 1.4k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia