गीत-मोहक छवि के दरश को मोहन…

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- गीत

🌹विधा – गीत 🌹
🌼 तर्ज – तुम्हारी नजरों में हमने देखा…..

🌺🌻🌼🌺🌻🌼🌺🌻🌼🌺

मोहक छवि के दरश को मोहन, प्यासी अंखियाँ तरस रही हैं।
विरह की बदरी हृदय पे छाईं सावन – भादों बरस रही हैं।

किया था *वादा* मगर न लौटे बसे हो जाकर के द्वारिका में।
विरह की मारी फिरें तड़पती कुंजन – कुंजन लता – पता में।
मधुर – मिलन की अनुभूति से हृदय की कलियाँ हरष रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन…..

तुम्हीं हो माता-पिता तुम्हीं हो बन्धु सखा सहारे।
हमारे अंतर की स्मृति में अमिट अनेकों चित्र तुम्हारे।
गुजारे पल की सुहानी यादें जहां में खुशियाँ परस रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन…..

तुम्हीं को देखें तुम्हीं को चाहें तुम्हीं को पूजें तुम्हें निहारें।
तुम्हीं हमारे हो प्राणधन प्रभु हमारी सांसें तुम्हें पुकारें।
तुम्हारे चरणों का *तेज* बनने की कामनाएं सरस रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन प्यासी अंखियाँ तरस रही हैं।
विरह की बदरी हृदय पे छाईं सावन-भादों बरस रही हैं।

🌺🌻🌼🌺🌻🌼🌺🌻🌼🌺
तेज 19/04/17✍

Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 64
Total Views 568
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia