गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना…

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गीत

गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना…
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
बिन सोचे तुम खो मत जाना अनजाने के प्यार मेँ
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार मेँ

सब पे ही विश्वास न करना
बहुत जरूरी डर के रहना
तेरी चिन्ता मेँ पल भर भी
नीँद न आती प्यारी बहना
दम घुटता है मेरा भी अब टोले या बाजार मेँ-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार मेँ

बहना कोई जल जाती है
सुन कर जान निकल जाती है
बेटी से है दुनिया फिर भी
दुनिया उसको छल जाती है
अच्छा होता जल जाती ये धरती ही इक बार मेँ-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार मेँ

लोगोँ मेँ ईमान कहाँ है
नारी का सम्मान कहाँ है
घूम रहे पापी ऐसे अब
प्रश्न उठे भगवान कहाँ है
देर बहुत अंधेर बहुत है उसके भी दरबार मेँ-
मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना संसार मेँ

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 84
Total Views 4.5k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia