गीत. बेटियाँ

Geetesh Dubey

रचनाकार- Geetesh Dubey

विधा- गीत

गीत
****
बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है
रॊनक कहाँ है फिर तो महज वो मशान है ।
माँ बाप के अब्सार की दरकार बेटियाँ
बेटी है तो खुशियों से लदा आसमान है ।

हर घर का नूर होती हैं प्यारी ये बेटियाँ
सृष्टि मे हूर होतीं दुलारी ये बेटियाँ
बेटी है तो हमारी आन मान शान है

बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है ।

बख्शी हैं जो ख़ुदा ने वो बरकत हैं बेटियाँ
जन्नत ज़मीं है जिनसे वो ज़ीनत हैं बेटियाँ
बेटी है तो आँगन ही यहाँ पर बागान है

बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है

अपनी कभी पराई कहातीं ये बेटियाँ
ये इक नहीं दो घर को सजातीं हैं बेटियाँ
बेटी की पैजनी से खनकता मकान है

बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है ।

करना न बेड़ियों मे गिरफ्तार बेटियाँ
इज्जत की इक नज़र की तलबगार बेटियाँ
बेटी है तो हर कॊम का नामो- निशान है

बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है ।

गीतेश दुबे " गीत "

Views 241
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Geetesh Dubey
Posts 24
Total Views 536

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia