गीत :अ दोस्त मेरे….दूर क्यों बैठा है तू

Radhey shyam Pritam

रचनाकार- Radhey shyam Pritam

विधा- गीत

अ दोस्त मेरे, दूर क्यों बैठा है तू
पास आ, कोई बात तो कर ले।
ये दिल है तेरा………..
मुलाक़ात तो कर ले।

अंतरा-1
अपनो से क्या नाराज़गी,गिले-शिकवे करना।
दिल से मिला दिल,तू दिल में….उतरना।
तन्हा है मेरा दिल……………..
तू साथ तो करले।
पास आ कोई बात तो करले।
अंतरा-2
इंतज़ार की सब हदें,पार कर चुका है दिल।
क़सम ख़ुदा की तुमपर,दिलो-जां से मर चुका है दिल।
अब कैसे हो सब्र………………
तू ख़्यालात तो करले।
पास आ कोई बात तो कर ले।
अंतरा-3
अंबर में हैं चाँद-तारे और सागर में है पानी।
इस दिल में तो है बस, तेरी ही एक कहानी।
उतर दिल के काशाने में………….
मालूमात तो कर ले।
पास आ कोई बात तो कर ले।
ये दिल है तेरा……….
मुलाक़ात तो कर ले।

गीतकार :राधेश्याम "प्रीतम"
******************

Sponsored
Views 71
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Radhey shyam Pritam
Posts 183
Total Views 9.6k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia