मन बांधे कब बंधा

Sharda Madra

रचनाकार- Sharda Madra

विधा- गज़ल/गीतिका

मन बांधे से न बंधा, ऊँची उड़े उड़ान
बाँधा जिसने है इसे, वो ही चतुर सुजान
**
लोभ करना बुरी बला,जाओगे तुम डूब
बनो सहारा दीन का, अच्छे बन इंसान
**
ज्ञानी चाहे तुम बनो, ऊंचे पद आसीन
रहिये सदा विनम्र भाव, मत कीजे अभिमान
**
त्यौहारों का देश ये, भारत जिसका नाम
संस्कृति में धनवान है, सब धर्मों की खान
**
अतिथि का सत्कार यहाँ, नहीं किसी से बैर
गौ को भी माता कहें, नदियों का सम्मान

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sharda Madra
Posts 53
Total Views 655
poet and story writer

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia