गीतिका

rekha mohan

रचनाकार- rekha mohan

विधा- गज़ल/गीतिका

गीतिका
2122 2122 2122 212
ऋतु वसंत आई लगी कुदरत खिजाना आ गया
फूल सब खिल –मिल लगे मानो जताना आ गया|

ड़ाल आमों हरित रंगतो में पकाना आ गया
तितलियाँ झूमी सुना गीतों हिलाना आ गया |

स्वर विहंगो का सुना धूने बनाना आ गया
मौज आई पहर ले माना झुलाना आ गया|

प्रेम में सुन्दर नया सा गान गाना आ गया
सुवह आदत मौन किरणों संग निभाना आ गया|
.
ऋतु मधुमास राग द्वेष भूला छिपाना आ गया
सीख मानव अब भि रोतो को मनाना आ गया |
रेखा मोहन २८ /२/२०१७

Sponsored
Views 70
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
rekha mohan
Posts 7
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia