ग़ज़ल :– जुलमी तेरी निगाहें ख़ंज़र …..!!

Anuj Tiwari

रचनाकार- Anuj Tiwari "इन्दवार"

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल :– जुल्मी तेरी निगाहें !!
गजलकार :– अनुज तिवारी "इन्दवार "

महफिल की भीड़ मे मेरा शिकार करती !
जुल्मी तेरी निगाहें खंजर सी वार करती !!

कह दो उन्हे जरा सी नजरें झुका लें अपनी !
सातिर बडी निगाहें चुन-चुन प्रहार करती !!

छुप जाऊं गर कहीं भी थोडी सी आड़ लेकर !
आतुर तेरी निगाहें पल-पल गुहार करती !!

आँखों मे सजाये अपने काजल की धार पैनी !
कातिल तेरी निगाहें दिल को हलाल करती !!

रखली उतार के पलकों पे ख्वाब सारे !
शायद तेरी निगाहें चाहत बेसुमार करती !!

Views 431
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anuj Tiwari
Posts 107
Total Views 18k
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी मोबाइल नम्बर --9158688418 anujtiwari.jbp@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
6 comments