गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं लेते

बबीता अग्रवाल #कँवल

रचनाकार- बबीता अग्रवाल #कँवल

विधा- गज़ल/गीतिका

गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं देते
माक़ूल हक़ीमो से दवा क्यों नहीं लेते

तुम दिल में छुपी बात बता क्यों नहीं देते
रूठे हैं अगर वो तो मना क्यों नहीं लेते

जो नोट हुए बन्द वो हो जायेंगे रद्दी
तुम इनको गरीबों में लुटा क्यों देते

किश्तों में न तड़पा कि रुकी जाए है धड़कन
इक बार में ही जान भला क्यों नहीं लेते

घुट घुट के जिए जा रहे बिस्तर पे पड़े हो
परदेश से बेटे को बुला क्यों नहीं लेते

क्यों दिल पे रखे बोझ मियां घूम रहे हो
आँखों से आंसुओं को बहा क्यों नहीं लेते

जो जिंदगी को घुन की तरह चाट रहा है
तुम उसको कँवल दिल से भुला क्यों नहीं लेते

बबीता अग्रवाल #कँवल

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 55
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
Posts 51
Total Views 3.3k
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia