गज़ल

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- गज़ल/गीतिका

करने रजनी को धवल शीतल,
रात भर तारे नभ में हैं चमकते ।

विरह में बेचैन सारे आशिक बस करवटें हैं बदलते ।
टकटकी लगाए टुकुर-टुकुर प्रिय को हैं निहारते।

कभी प्रेयसी के लब हैं काँपते
और छिप कर नैना​ हैं सिसकते।

दिन रैन अश्रु मोती बन झरझर झरने से झरते
आँखों से सुरमा काजल गालों पर आ पसरते ।

हर पल नीलम सब आशिक हैं प्रेम अग्नि में जलते
कुछ स्वप्न तो पूरे होते, कुछ अरमान मन में है सुलगते।

नीलम शर्मा

Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 213
Total Views 1.8k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia