गजल

Rishav Tomar (Radhe)

रचनाकार- Rishav Tomar (Radhe)

विधा- गज़ल/गीतिका

वो मुझ पर सितम ढाती रही
रात भर मुझको जगाती रही

काश दूर होती ये मुफ़लिसी
वो रात भर याद आती रही

मुझे अपनी छत पर बैठे हुये
रात भर देखकर मुस्कुराती रही

मेरी परेशानियाँ और बढ़ती रही
मुझे मुड़ मुड़कर देखती रही

खुशियाँ नही है ज़िन्दगी में
वो मुझे हर रोज सताती रही

जो भी ऊँगली उठी चाहत पर
वो मुझे हर बात बताती रही

चोट देकर वो मुस्कुराने लगी
हर लम्हा मुझे याद आती रही

मुसलसल मुफ़लिसी थमी नही ऋषभ
फिर भी मुझे देखकर वो हँसती रही

रचनाकार ऋषभ तोमर

Sponsored
Views 24
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rishav Tomar (Radhe)
Posts 37
Total Views 591
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia