गजल

Rishav Tomar (Radhe)

रचनाकार- Rishav Tomar (Radhe)

विधा- गज़ल/गीतिका

मुझे कुछ दूर एक मंजर नजर आता है
मुझे खुद का घर जलता नजर आता है

मैं दिनभर जरे जरे में खोजता फिरता हूँ उन्हें
बस वो हसीं चाँद मुझे ख्याबो में नजर आता है

बहुत खोजो तब दुनिया मे कोई हमदर्द नजर आया
उसके बिना तो मुझे सिर्फ दुनिया मे पतझड़ नजर आता है

मुसलसल मुफ़लिसी में कटी है मैने सारी जिंदगी
मुझे दुनिया से कही ज्यादा रोटी का टुकड़ा अच्छा नजर आता है

जमाने मे अच्छे दिनों को देखते देखते थक गया हूँ
अब मुझे घर मे खत्म होता हुआ राशन पानी नजर आता है

आज फिर इस कुदरत ने तूफान बन सताया है मुझे
क्योंकि मुझे घर का गिरा हुआ छप्पर नजर आता है

बेटियों को तो ख़ुदा की नेमत कहा जाता है जमाने में
भगर मुझे तो दहेज से उनका भविष्य काला नजर आता है

इससे तो पुराने युग के निरक्षर लोग ही बहुत अच्छे थे
आज हर पढ़े लिखे के हाथ मे मुझे खूनी खंजर नजर आता है

अब तो टूटकर 'ऋषभ' इस कदर बिखर गया है
कि कब्र में उसे कोई ख़ुशनुमा मंजर नजर आता है

रचनाकार-ऋषभ तोमर
अम्बाह

Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rishav Tomar (Radhe)
Posts 28
Total Views 324
ऋषभ तोमर पी .जी.कॉलेज अम्बाह मुरैना बी.एससी.चतुर्थ सेमेस्टर(गणित)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia