गजल

Neelam Naveen

रचनाकार- Neelam Naveen "Neel"

विधा- गज़ल/गीतिका

नुमू  की हसरतों में  दिल औ दरख्त खुलता गया
कब मंजिलें  मेरे करीब आयी  पता ही न चला ।

वो सब्ज़बख़्त कह कर  उम्रभर सँवारते रहे हमको
कब हथेलियो से रेखाएँ गिर गयी पता ही न चला ।

कई अर्से गुजरे फिर कहीं उनसे वस्ल के मंजर बने
शाम कयामत बन बन कर आयी पता ही न चला ।

लज्जत लिऐ वो कई दफा मिरे दिल की दुकानों से
आहिस्ता आहिस्ता फना हो गयी  पता ही न चला ।

उदू कई है  मेरे भी अजीज दोस्तों की महफिल में
बातों बातों में कब यारी बदल गयी पता ही न चला ।

लबों से तबस्सुम लेकर वो करीब से गुजरते गये
नाजनीन सी पलकें कब नम हुयी पता ही न चला ।

मग्लूब में गिरे भी कई कई दफा जिन्दगी की खातिर
कब उसमें सिमट कर "नील" खो गयी  पता ही न चला ।

नीलम पांडेय "नील"
8/4/17

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 140
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Neelam Naveen
Posts 16
Total Views 1.2k
From Ranikhet Dist. Almora

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia