गजल

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- गज़ल/गीतिका

प्रेम तेरा फले दुआ भी दो
प्यार के रोग की दवा भी दो

याद तेरी भुला नहीं पाऊँ
रोग में आप यह सजा भी दो

आ चुकी हूँ गिरफ्त में तेरी
साथ मेरा निभा वफा भी दो

बात मेरी करे सभी पूरी
प्रेम के वेष में खुदा भी दो

प्रेम में हो गई दिवानी मैं
बन खुदा आज तुम नफा भी दो

बीत पाये न रैन दुख की अब
तुम गले से लगा हसा भी दो

चाँद बैचेन देखने को है
चेहरे को जरा दिखा भी दो

आज दुल्हन नयी नवेली हूँ
आप घूँघट जरा हटा भी दो

साँस मेरी हरेक तेरे में
रोज साँसे मुझे दिला भी दो

हूँ अनाडी अभी इश्क में मैं
प्रेम का पाठ अब पढा भी दो

प्यार में आपके पगी हूँ मैं
प्यार का वो मुझे सिला भी दो

होश खोये पता न क्यों मेरे
जाम में मधु मिला पिला भी दो

☀☀☀☀☀डॉ मधु त्रिवेदी ☀☀☀☀☀

Sponsored
Views 62
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 279
Total Views 4.6k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia